सोमवार, 21 जनवरी 2008

तुम आज भी नही आये


सुबह हो गयी है
घडी का अलार्म न जाने कितनी बार बजकर बंद हो गया है
सुबह का अख़बार भी ज़माने भर की खबरें ले आया है
भाजीवाला भी ताज़ा ताज़ा सब्जी दे गया है
टीवी पर सुबह सवेरे का कार्यक्रम भी ख़त्म हो गया है
दादा जी भी सामने वाले पार्क में योग करके लौट आये है
लेकिन आज भी मेरे दरवाजे पे तुम्हारी कोई दस्तक नही हुई
तुम आज भी नही आये

-तरुण

3 टिप्‍पणियां:

  1. aap ne bhut acha le. hai

    mera sar



    Takraar bhi doston se hai
    > Pyar bhi doston se hai
    > Roothna bhi doston se hai
    > Manana bhi doston se hai
    > Baat bhi doston se hai
    > Misaal bhi doston se hai
    > Nasha bhi doston se hai
    > Shaam bhi doston se hai
    > Zindagi ki shuruvaat bhi doston se hai
    > Zindagi main mulakaat bhi doston se hai
    > Mohabbat bhi doston se hai
    > Inaayat bhi doston se hai
    > Kaam bhi doston se hai
    > Naam bhi doston se hai
    > Khyal bhi doston se hai
    > Armaan bhi doston se hai
    > Khvab bhi doston se hai
    > Maahol bhi doston se hai
    > Yaadein bhi doston se hai
    > Mulakaatein bhi doston se hai
    > Sapne bhi doston se hain
    > Apne bhi doston se hai
    > Ya yoon kahoon yaro
    > Apni to duniya hi doston se hai..
    > thats why i like making friends ...
    > waitng for ur friendship.. ..

    TUMHARA

    उत्तर देंहटाएं
  2. aaj kal log aapane kaam me baste rahte hai ae ake acha medam hai .....E..magine...

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'तुम आज भी नही आये' या 'तुम आज भी नही आयीं' :-)

    उत्तर देंहटाएं