बुधवार, 27 फ़रवरी 2008

अभी बाकी है


न दफनाओ मुझको कि सीने में कुछ साँस अभी बाकी है
आँखे बंद है मगर दिल में कुछ ख्वाब अभी बाकी है

मैं कैसे मान लूँ कि तुम मुझे प्यार नही करती
जुबाँ कह चुकी मगर आँखो का एक जवाब अभी बाकी है

तुम जा रही हो ज़रा कुछ पल और ठहर जाओ
रिश्ता तोड़ने की रस्में, आंसूओ का एक रिवाज़ अभी बाकी है

सीने में छिपी हर बात को, लब तो कह नही सकते
तुम दिल से सुनो, धडकनों की एक आवाज़ अभी बाकी है

वो मेरा कत्ल करके टटोलते है मेरी रूहों को
मरने के बाद भी शायद एक और हिसाब अभी बाकी है

-तरुण

2 टिप्‍पणियां:

  1. वो मेरा कत्ल करके टटोलते है मेरी रूहों को
    मरने के बाद भी शायद एक और हिसाब अभी बाकी है


    Bahut sunder rachna hai! Hmmm....zindagi lagta hai bus jod, ghata, guna, bhag tak ka hishab bankar raha gaya hai :-)

    उत्तर देंहटाएं
  2. good one again

    न दफनाओ मुझको कि सीने में कुछ साँस अभी बाकी है
    आँखे बंद है मगर दिल में कुछ ख्वाब अभी बाकी है

    jindagi khatm ho jaati hai lekin khwab khatm nahi hote

    applause 4 u

    उत्तर देंहटाएं