मंगलवार, 12 फ़रवरी 2008

कौन है


चिराग तो सारे
बुझा दिए मैंने
फिर भी न जाने कौन
जल रहा है
कि अँधेरा नही होता
कब से ये परछाई मूझे पकडे है
न जाने क्यों मुझे छोड़कर नही जाती
कोई भी तो आवाज़ नही है
फिर न जाने क्यों
एक तन्हाई नही मिलती
मैं कबसे चुप हूँ खामोश हूँ
लेकिन न जाने कौन बोल रहा है
जो तन्हाई मेरे घर नही आती
मैंने खोल दिए है सब दरवाजे
फिर भी न जाने कौन है
खड़ा है किसी दरवाज़े पे कही
कि दस्तकें बंद नही होती
कौन है जो
न सामने आता है
न लौटकर जाता है

-तरुण

1 टिप्पणी:

  1. बहुत खूबसूरत , ये तुम्हारी सबसे बेहतरीन रचनाओं मे से इक होनी चाहिए - गोपाल

    उत्तर देंहटाएं