बुधवार, 16 जुलाई 2008

एहसास

मेरी आँखों से जब टपके आंसू
तेरे प्यार का तब एहसास हुआ
सांसे बुझी धड़कने थमी
तेरी यादो ने जब मुझको छुआ

रुके कदम जब तेरे दर से उठा
कितनी बार न जाने मुड़कर देखा
हर कदम पे बोझ बढता रहा
न जाने कितनी बार रूककर मैं चला

साँसे भी तेरे बिन न चले
आँखों में भी तो कोई ख्वाब नही
तू आए तो चैन से सो लूँ दो पल
वरना नींदों की कोई रात नही

सुबह भी लगे कुछ फीकी फीकी
दिन भी एक अनजाने सफर सा कटे
किस शाम का मैं इन्तेज़ार करूँ
तेरे बिन हर लम्हा बदन मेरा जले ।

-तरुण

5 टिप्‍पणियां:

  1. उमेश कुमार16 जुलाई 2008 को 5:09 am

    तरुण जी,अति सुदर,शाश्वत कविता है आपकी.. आपकी रचनाओं में अनुभूति की तीव्रता है जो आपकी हर रचना को सार्थक बनाती है... अविराम आगे बढ़ते रहिये सफलता कदम चूमेगी...आपकी हर रचना को नियमित पढने का प्रयास करूंगा...

    उत्तर देंहटाएं
  2. wah bahut sundar.

    सुबह भी लगे कुछ फीकी फीकी
    दिन भी एक अनजाने सफर सा कटे
    किस शाम का मैं इन्तेज़ार करूँ
    तेरे बिन हर लम्हा बदन मेरा जले ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. Hii Tarun, whn i saw ur blog i felt tht u share the same feeling wth which i write my peoms... ur blog was very familiar to me...i felt as if they are my thougts but in ur words...I really liked ur blog.

    And ths goes without saying tht ur peoms are amazing.

    Neelima

    उत्तर देंहटाएं
  4. Tarun

    Kafi achche hain ,tumhari sari rachna.

    Lekin jeewn ke kayee aayam hain.

    Maana ki dukh jyada hain,udashi jyada ,lekin aur bhi to pahaloon hain...na..

    un pe bhi likho,badlaw aayega...
    hame thodi kushi bhi milegi padhne ko...

    Padhne ka mouka kam milta hai...
    But tumhari avivyakti kabile tarif hai.

    Keep going.

    Anshuman

    उत्तर देंहटाएं
  5. Tarun

    Kafi achche hain ,tumhari sari rachna.

    Lekin jeewn ke kayee aayam hain.

    Maana ki dukh jyada hain,udashi jyada ,lekin aur bhi to pahaloon hain...na..

    un pe bhi likho,badlaw aayega...
    hame thodi kushi bhi milegi padhne ko...

    Padhne ka mouka kam milta hai...
    But tumhari avivyakti kabile tarif hai.

    Keep going.

    Anshuman

    उत्तर देंहटाएं