रविवार, 20 अप्रैल 2008

ऐ रात तू ही बता दे

ऐ रात तू ही बता दे , कहाँ छुपा है मेरा चाँद
बरसों हुए आँख मिलाये, बरसों से नही देखा चाँद

जाए तू शहर शहर , गुज़रे तू हर राह से
तुमने तो देखा होगा, किस गली में निकला है मेरा चाँद

चाँद के बिना मैं आधा हूँ , जैसे काली रात अमावस
संदेसा तू दे दे उसको , मुझसे मिला दे मेरा चाँद

हर रात फलक के चाँद से पूछो, जाने क्यों वो भी न बताये
उसने तो देखा होगा , जब खिड़की में निकला होगा मेरा चाँद

-तरुण

3 टिप्‍पणियां:

  1. usne to dekha hoga jab khidki se nikla hoga mera chand,wah ji wah bahut khub,sundar

    उत्तर देंहटाएं
  2. Hello. This post is likeable, and your blog is very interesting, congratulations :-). I will add in my blogroll =). If possible gives a last there on my blog, it is about the Monitor de LCD, I hope you enjoy. The address is http://monitor-de-lcd.blogspot.com. A hug.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐ रात तू ही बता दे , कहाँ छुपा है मेरा चाँद
    बरसों हुए आँख मिलाये, बरसों से नही देखा चाँद


    Bahut sunder.

    उत्तर देंहटाएं