गुरुवार, 20 मार्च 2008

तुझे साथ मेरा निभाना है

ऐ रात तुझे न ढलने दूंगा, तुझे साथ मेरा निभाना है
कुछ ख्वाबो को जीना है, कुछ उम्मीदों को जगाना है

आसमाँ कि सारी उम्मीदों को एक एक करके संजोना है
कुछ मुस्कानों को जगाना है कुछ भूखे बच्चो को सुलाना है

दुनिया में फैली नफ़रत को एक प्यार का मतलब सिखाना है
कुछ जुबाँ पे फूल खिलाने है कुछ आदमी को इन्साँ बनाना है

वो देता है जब देता है, लेता है तो भी कुछ कहता नही
कुछ उसकी मर्जी से जीना है , कुछ अपनी तक्दीरो को बनाना है

तेरे मेरे इस रिश्ते को एक मायना अभी देना है
कुछ कसमें अभी खानी है , कुछ वादों को निभाना है

-तरुण

4 टिप्‍पणियां:

  1. दुनिया में फैली नफ़रत को एक प्यार का मतलब सिखाना है
    कुछ जुबाँ पे फूल खिलाने है कुछ आदमी को इन्साँ बनाना है


    Simply lovely...

    regards!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ऐ रात तुझे न ढलने दूंगा, तुझे साथ मेरा निभाना है
    कुछ ख्वाबो को जीना है, कुछ उम्मीदों को जगाना है


    Bhaut hi sunder rachna hai.

    Rat yun kahne laga mujhse gagan ka chand
    Aadmi bhi kya anokha jeev hota hai!

    उत्तर देंहटाएं
  3. maine aap ke jivan ka ye pehlu to kabhi dekha he nahe tha
    aap mujhe dikha te the ke aap ek dum free mood me rehne wale insaan ho
    aur afsoos ke mai bhi aap ko yehe dikha ta tha
    jo mai ho he nahi
    bus hum melancholy logo me yahee ho ta hai andar se gumgeen aur kisi ko bata te nahi logo ke khushi me khush ho ja te hai
    aur kisi ko ehsas bhi nahi hota ke andar kitna saan na ta hai

    bhai jaan aap to bahut sanjeeda insaan ho
    mai to pehle khood ko he tanhaa samajh ta tha iss jahan me
    par aap mile gae to sahara ho gaya

    उत्तर देंहटाएं
  4. TUM ROZ ROZ AISI KAVITA
    KAHA SE LATE HO

    HAR SHBDO SE LAGATA HAI
    JAISE GEET KOI GATE HO

    TUMHE PADHKAR AISA LAGA
    JAISE KOI KHULI KITAB HO

    PAR MERE BHAI
    TUM TO KAVITAO KA BAG HO.



    VERY NICE PERFORMANCE YAAR
    KEEP IT

    उत्तर देंहटाएं