शुक्रवार, 20 नवंबर 2009

त्रिवेणी

तेरे रिश्ते को कब का दफ़न कर आया हूँ
फिर भी तेरा एहसास है कि जाता नहीं

रिश्तो कि भी शायद कोई रूह होती होगी

                *****

तेरी हर एक याद को दरियां में बहा आया हूँ
तेरी हर आहट को ख़ामोशी में सुला आया हूँ

आजकल बहुत अकेला अकेला सा लगता है

              *****

एक बार रोते हुए माँ से चाँद को माँगा था
अब हर रात खुदा से एक तुझे मांगता हूँ

काश एक बार चाँद मेरे आँगन में उतर आये

              *****

एक खंजर सा उतरता है सीने में
जब जब याद तुम्हारी आती है

कुछ रिश्ते खून से लिखे होते है

          ******

कागज़ की किश्ती लिए एक दिन मैं
तेरा नाम लेकर समंदर में उतर गया था

वो समंदर अब तक मेरी आँखों से टपकता है

       *******
तरुण

6 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर लगी त्रिवेणियाँ.

    उत्तर देंहटाएं
  2. तेरी हर एक याद को दरियां में बहा आया हूँ
    तेरी हर आहट को ख़ामोशी में सुला आया हूँ

    आजकल बहुत अकेला अकेला सा लगता है


    बहुत बढिया ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया , अहसास को जुबान दे दी , न रिश्ते न यादें जो दफ़न होतीं हैं सीने में , कभी मिटती हैं , मौका पाते ही सर उठा कर खड़ी हो जाती हैं , बोलने लगतीं हैं बेशक वो माध्यम कलम ही हो |

    उत्तर देंहटाएं
  4. I liked all the three Triveni's by you. I've always been a great fan of Triveni form of poetry and have been a great fan of Gulzar sahab, who gave such a nice form of poetry to all of us. Once again, keep writing!
    ~Ganesh

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर त्रिवेणियां है...

    उत्तर देंहटाएं