गुरुवार, 13 अगस्त 2009

सुबह

हजारों रातों को जलाकर
लाखो ख्वाबो को बनाकर
न कितने लम्हों के
एक एक तागें को पिरोकर
जिस सुबह को सजाया था
वो आज मिली है
आ मेरी उम्मीदों की दुल्हन
ज़रा कुर्सी पे मेरे सामने बैठ
कुछ देर मुझसे बात कर
मैं भी देखूं
जिसने इतना तरसाया है
न जाने कितनी रातो को जगाया है
वो सुबह कैसी है ...

-तरुण

3 टिप्‍पणियां:

  1. जो सुबह ह्जारो रातो को जगाकर मिली है वह सुबह निश्चय ही खूबसूरत होगी.
    सुन्दर अभिव्यक्ति प्रदान की है आपने अपनी रचना मे.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया।
    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं